Saanj Dhale Gagan Tale Hum Lyrics From Utsav [English Translation]

Saanj Dhale Gagan Tale Hum Lyrics: This song is sung by Suresh Wadkar from the Bollywood movie ‘Utsav’. The song lyrics were written by Vasant Dev and the music is composed by Laxmikant Shantaram Kudalkar and Pyarelal Ramprasad Sharma. It was released in 1984 on behalf of Crescendo Music.The Music Video Features Rekha, Amjad Khan, Shashi Kapoor, Shekhar Suman, and Anuradha Patel. This film is directed by Girish Karnad.Artist: Suresh WadkarLyrics: Vasant DevComposed: Laxmikant Shantaram Kudalkar, Pyarelal Ramprasad SharmaMovie/Album: UtsavLength: 4:15Released: 1984Label: Crescendo Music

Saanj Dhale Gagan Tale Hum Lyrics

सांझ ढले गगन तले
सांझ ढले गगन तले
हम कितने एकाकीछोड़ चले नैनो को
किरणों के पाखी
सांझ ढले गगन तले
हम कितने एकाकीपथ की जाली से झाँक
रही थीं कलियाँ
पथ की जाली से झाँक
रही थीं कलियाँ
गंध भरी गुनगुन में
मगन हुई थीं कलियाँ
इतने में तिमिर ढसा
सपनीले नयनों में
कलियों के आंसुओं का
कोई नहीं साथी
छोड़ चले नयनो को
किरणों के पाखी
सांझ ढले गगन तले
हम कितने एकाकीजुगनू का पट ओढ़े
आयेगी रात अभी
जुगनू का पट ओढ़े
आयेगी रात अभी
निशिगंधा के
सुर में कह देगी बात सभी
निशिगंधा के
सुर में कह देगी बात सभी
तपता है मन
जैसे डाली अम्बवा की
छोड़ चले नयनो को
किरणों के पाखी
सांझ ढले गगन तले
हम कितने एकाकीसांझ ढले गगन तले
हम कितने एकाकी.

Saanj Dhale Gagan Tale Hum Lyrics English Translation

सांझ ढले गगन तले
Dusk fell under the sky
सांझ ढले गगन तले
Dusk fell under the sky
हम कितने एकाकी
How lonely we are
छोड़ चले नैनो को
Leave Nano
किरणों के पाखी
The rays of the sun
सांझ ढले गगन तले
Dusk fell under the sky
हम कितने एकाकी
How lonely we are
पथ की जाली से झाँक
Peep through the mesh of the path
रही थीं कलियाँ
There were buds
पथ की जाली से झाँक
Peep through the mesh of the path
रही थीं कलियाँ
There were buds
गंध भरी गुनगुन में
In a smelly hum
मगन हुई थीं कलियाँ
The buds were delighted
इतने में तिमिर ढसा
In the meantime, Temir collapsed
सपनीले नयनों में
In dreamy eyes
कलियों के आंसुओं का
Of the tears of the buds
कोई नहीं साथी
None mate
छोड़ चले नयनो को
Leave Naino
किरणों के पाखी
The rays of the sun
सांझ ढले गगन तले
Dusk fell under the sky
हम कितने एकाकी
How lonely we are
जुगनू का पट ओढ़े
Cover fireflies
आयेगी रात अभी
The night will come now
जुगनू का पट ओढ़े
Cover fireflies
आयेगी रात अभी
The night will come now
निशिगंधा के
of Nishigandha
सुर में कह देगी बात सभी
All will say in tune
निशिगंधा के
of Nishigandha
सुर में कह देगी बात सभी
All will say in tune
तपता है मन
The mind is hot
जैसे डाली अम्बवा की
Like Dali Ambwa’s
छोड़ चले नयनो को
Leave Naino
किरणों के पाखी
The rays of the sun
सांझ ढले गगन तले
Dusk fell under the sky
हम कितने एकाकी
How lonely we are
सांझ ढले गगन तले
Dusk fell under the sky
हम कितने एकाकी.
How lonely we are.

Leave a Comment